77 मुख्यमंत्री कन्यादान/निकाह/नि:शक्तजन विवाह योजना के अंतर्गत जिले में दिव्यांग सहित 653 कन्याओं के विवाह का लक्ष्य आवंटित

मुख्यमंत्री कन्यादान/निकाह/नि:शक्तजन विवाह योजना के अंतर्गत सभी जनपद पंचायत मुख्यालयों पर सामूहिक विवाह होंगे जिले में दिव्यांग सहित 653 कन्याओं के विवाह का लक्ष्य आवंटित छिन्दवाडा मुख्यमंत्री कन्यादान योजना, निकाह योजना और नि:शक्तजन विवाह योजना के अन्तर्गत आगामी माह मार्च तक शुभ मुहुर्त तिथियों में जिले के सभी जनपद पंचायत/नगरपालिका मुख्यालयों पर निर्धन और निराश्रित परिवारों की कन्याओं के अलावा दिव्यांग कन्याओं के लिये सामूहिक विवाह का आयोजन किया जायेगा। प्रमुख सचिव सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण द्वारा वीडियो कांफ्रेंस में इस संबंध में दिये गये निर्देशों के परिप्रेक्ष्य में कलेक्टर जे.के.जैन द्वारा सामूहिक विवाह सम्मेलन के लिये प्रत्येक जनपद पंचायत में 50-50 के मान से 550 कन्याओं के विवाह के अलावा केवल दिव्यांगों के सामूहिक विवाह सम्मेलन के लिये प्रत्येक जनपद पंचायत में 5-5 के मान से 55 और प्रत्येक नगरीय निकाय में 3-3 के मान से 48 दिव्यांगों के विवाह का लक्ष्य जनपद पंचायतों और नगरीय निकायों को आवंटित किया गया हैं। उन्होंने जिले की सभी जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों और नगरीय निकायों के मुख्य नगरपालिका अधिकारियों को अपने क्षेत्र के विधायक से चर्चा कर विवाह की तिथि का निर्धारण कर जिला कार्यालय को अवगत कराने एवं अपने मैदानी अमले सरपंच, सचिव, आंगनवाडी कार्यकर्ता आदि के माध्यम से इन योजनाओं और सामूहिक विवाह की निर्धारित तिथि का व्यापक प्रचार-प्रसार करने और पात्र कन्याओं एवं उनके अभिभावकों को इस योजना के अन्तर्गत भाग लेने हेतु प्रेरित कर लक्ष्य पूर्ति करने के निर्देश दिये हैं। साथ ही विवाह के इच्छुक पात्र हितग्राही जोडो और दिव्यांग जोडो की सूची 15 फरवरी तक उप संचालक सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण को भेजने के निर्देश भी दिये है जिससे समय सीमा में राशि उपलब्ध कराई जा सके और जिला स्तर पर दिव्यांगों के एकल विवाह के लिये सम्मेलन का आयोजन किया जा सके। कलेक्टर जैन ने बताया कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना और निकाह योजना के अन्तर्गत जारी वित्तीय वर्ष में जनपद पंचायत छिन्दवाड़ा, परासिया, तामिया, हर्रई, अमरवाडा, चौरई, मोहखेड, बिछुआ, पांढुर्णा, सौंसर और जुन्नारदेव को 50-50 तथा नि:शक्तजन विवाह योजना के अंतर्गत जनपद पंचायत छिन्दवाडा, जुन्नारदेव, परासिया, तामिया, हर्रई, अमरवाड़ा, चौरई, मोहखेड, बिछुआ, पांढुर्ना और सौंसर को 5-5 दिव्यांगों तथा नगरीय निकाय पांढुर्णा, परासिया, जुन्नारदेव, चौरई, अमरवाडा, सौंसर, बडकुही, चांदामेटा, न्यूटन चिखली, दमुआ, हर्रई, लोधीखेडा, मोहगांव, पिपलानारायणवार, बिछुआ और चांद को 3-3 दिव्यांगों के विवाह कराने का लक्ष्य दिया गया है। उन्होंने बताया कि इन योजनाओं के अन्तर्गत सामूहिक विवाह में सम्मिलित होने के लिये वधू की उम्र 18 वर्ष और वर की उम्र 21 वर्ष होना चाहिये तथा जोड़ों के द्वारा पूर्व में विवाह नहीं किया गया होना चाहिये।

Sliderfront